नया संविधान नया संसद चाहने वाले और मदरसों को बंद कराने एवं धर्म की राजनीति करने वाले मनुवादी यतींद्र नाथ गिरी पर बहुजन मुक्ति पार्टी ने मुकदमा दर्ज कराया*

 *नया संविधान नया संसद चाहने वाले और मदरसों को बंद कराने एवं धर्म की राजनीति करने वाले मनुवादी यतींद्र नाथ गिरी पर बहुजन मुक्ति पार्टी ने मुकदमा दर्ज कराया*

मेरठ :-बहुजन मुक्ति पार्टी ने मनुवादी मनुस्मृति चाहने वाले नए संविधान नए संसद की मांग करने वाले और मुस्लिम समाज के मदरसों को बंद करने और इंडियन लायर एसोसिएशन को बंद की मांग करने वाले यतींद्र नाथ गिरी पर सी ओ प्रथम मेरठ से मिलकर कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया और राष्ट्रपति महोदय के नाम सिटी मजिस्ट्रेट द्वारा ज्ञापन भेजा।

बहुजन मुक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष माननीय बीएल मातंग कार्यकारिणी राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रवेद्र प्रताप सिंह उत्तर प्रदेश अध्यक्ष प्रोफेसर रामधारी दिनकर के निर्देशानुसार उत्तर प्रदेश के समस्त जिलों में यतेन्द्र नाथ गिरी पर मुकदमा दर्ज कराने की मांग को लेकर मेरठ जिला अध्यक्ष ओमवीर सिंह ने प्रदेश मीडिया प्रभारी आर डी गादरे एवं कार्यकर्ता और पदाधिकारियों के साथ सीओ मेरठ से मिलकर कोतवाली में यतींद्र नाथ गिरी के विरुद्ध देशद्रोह का की मांग करते हुए मुकदमा दर्ज कराया। तदोपरांत मेरठ कचहरी पहुंचकर सिटी मजिस्ट्रेट के द्वारा महामहिम राष्ट्रपति भारत सरकार के नाम बहुजन मुक्ति पार्टी का ज्ञापन भेजा।

ज्ञात हो कि 28 जून 2021 को जूना अखाड़ा के महामंडलेश्वर यतींद्र नाथ गिरी द्वारा दैनिक समाचार पत्र अमर उजाला कानपुर मे नए संविधान के साथ नई संसद में प्रवेश नामक शीर्षक से प्रकाशित समाचार को लेकर और देश की नई संसद में नए संविधान के साथ प्रवेश होना चाहिए को जनसंख्या पर नियंत्रण रोक का कानून बनाने के अलावा धर्मांतरण को अपराध घोषित कर मदरसों का इंडियन मेडिकल एसोसिएशन आईएमए को समाप्त करने की मांग को निराधार मानकर बहुजन मुक्ति पार्टी ने गिरी के विरुद्ध जिला कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज कराने का अभियान के तहत मेरठ जिले में भी यतेंद्र नाथ गिरी द्वारा बोले गए राष्ट्रीय अखंडता और धर्मनिरपेक्षता पर प्रतिकूल प्रभाव डालने वाले लांछन का प्राख्यान है यतींद्र नाथ गिरी के द्वारा नए संविधान में आरक्षण पर कोई विचार की टिप्पणी कर आरक्षित वर्ग को अनावश्यक जन आंदोलन के लिए उत्प्रेरित करने तथा जनान्दोलन

 के संबंध में निराधार संभाषण करने वर्ग विशेष को जानबूझकर आरोपित करना और भारत व विश्व में मुस्लिम इस्लाम धर्म के समस्त अनुयायियों की धार्मिक भावनाओं को अपमानित और आहत करने तथा संपूर्ण विश्व में भारत की धर्मनिरपेक्षता की गरिमा में छवि धूमिल करना एवं जन सामान्य तथा मुस्लिम वर्ग के अनुयायियों के बीच शत्रुता का सम परिवर्तन करना सोहार्द प्रतिकूलतः प्रभावित करना तथा लोक प्रशांति में विघ्न उत्पन्न करने और राष्ट्रीय अखंडता और धर्मनिरपेक्षता का प्रतिकूल प्रभाव डालने वाले लांछन का पूरा प्राख्यान भारतीय दंड संहिता 1860 की धारा 124 क 153 क 153 ब, 295 क, व 120 बी एवं  राष्ट्रीय गौरव अपमान निवारण अधिनियम,  1971 की धारा -2 के अंतर्गत दंडनीय अपराध की श्रेणी में मानकर प्रकरण की गंभीरता और संवेदनशीलता को ध्यान में रखते हुए जूना अखाड़ा मंडलेश्वर यतींद्र नाथ गिरी और साथियों के विरुद्ध उपर्युक्त लिखित धाराओं में प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज करने दंड एवं दंडात्मक कार्यवाही करने की भी मांग की गई तदोपरांत महामहिम भारत सरकार राष्ट्रपति के नियम नाम भी सिटी मजिस्ट्रेट से मिलकर ज्ञापन भेजा ज्ञापन भेजने वालों में आर डी गादरे ओमबीर सिंह  शाहनवाज प्रदीप मोहम्मद दिलशाद सूफी अमजद अली अरुण सिंह अतर सिंह गुप्ता ओमवीर सिंह एडवोकेट आवेश उमेश रूपचंद आदि मौजूद रहे




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बरेली के बहेड़ी थाने में लेडी कांस्‍टेबल के चक्‍कर में पुलिस वालों में चलीं गोलियां, थानेदार समेत पांच पर गिरी गाज

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

लोनी नगर पालिका परिषद लोनी का विस्तार कर 11 गांव और उनकी कॉलोनियों को शामिल कर किया गया