ओलंपिक क्वालीफायर के लिए ताइक्वांडो ट्रायल में दिल्ली के अजय दलाल का चयन*





*ओलंपिक क्वालीफायर के लिए ताइक्वांडो ट्रायल में दिल्ली के अजय दलाल का चयन*


*दिल्ली के अजय दलाल टोक्यो ओलंपिक के चयन ट्रायल में लेंगे हिस्सा*


*नई दिल्ली:* भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) टोक्यो ओलंपिक में खेलने का सपना संजोए ताइक्वांडो खिलाड़ियों के लिए भारतीय खेल प्राधिकरण लखनऊ सेंटर में 15 से 17 अप्रैल तक तीन दिवसीय चयन ट्रायल आयोजित कराने जा रहा है। जिसमे बेहतर प्रदर्शन करने वाले ताइक्वांडो खिलाड़ियों का ओलंपिक में खेलने का सपना साकार होगा। गौरतलब है कि कनाडा में कॉमनवेल्थ गेम्स में मैडल हासिल कर चुके व राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा चुके उत्तरी दिल्ली के किराड़ी गांव के अजय दलाल 87 किलोभार वर्ग में 4.32 पॉइंट्स के साथ इस ताइक्वांडो के चयन ट्रायल में हिस्सा ले रहे हैं। बता दें कि अजय एक किसान पुत्र हैं और खेल में रूचि रखने के साथ-साथ फिजिकल एजुकेशन में पोस्ट ग्रेजुएशन व अनेक ट्रेनिंग कार्यक्रमों में वह युवाओं के लिए एक प्रेरणा स्त्रोत हैं, जिन्हें आदर्श मानकर अन्य युवा भी खेल के प्रति प्रोत्साहित हो रहे हैं। अजय 10 वर्ष की आयु से ताइक्वांडो खेल रहे हैं। वह 2010 इंडिया ओपन में ताइक्वांडो ब्रॉन्ज मेडल, 2017 कॉमनवेल्थ मेडलिस्ट, फुजैराह ओपन चैंपियनशिप 2018 व 2019 में ब्रॉन्ज मेडल, एशिया ओपन चैंपियनशिप 2019 में ब्रॉन्ज मेडल, जर्मनी ओपन चैंपियनशिप में 5वें स्थान के साथ देश को गर्व के क्षण समर्पित कर चुके हैं। ‘जय जवान’ ‘जय किसान’ के नारे को साकार करते हुए किसान पुत्र अजय दलाल ने न केवल दिल्ली प्रदेश का नाम रोशन किया है बल्कि आज के युवाओं को एक नई राह भी दिखाई है। अजय दिल्ली में आर्यन्स वर्ल्ड के नाम से एक स्पोर्ट्स एकेडमी भी चलाते है जहां वे सामाजिक सद्भाव व जरुरतमंद छात्रों तथा प्रदेश की बेटियों को आत्मरक्षा के लिए ट्रेनिंग भी देते हैं। अजय का मानना है कि ताइक्वांडो मात्र खेल नहीं बल्कि आत्मरक्षा व स्वस्थ रहने का एक माध्यम भी है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग