हुकूमत भी गरीबों पर अजब एहसान करती है।। लॉकडाउन लगाकर गरीबों को राशन दान करती है।



 

 हुकूमत भी गरीबों पर अजब एहसान करती है।। लॉकडाउन लगाकर गरीबों को राशन दान करती है।


बेताब समाचार एक्सप्रेस के लिए यूपी प्रभारी मुस्तकीम मंसूरी की रिपोर्ट।


सरकार की नाकामियों को छुपाने के लिए मुख्यमंत्री ने लिया बड़ा फैसला, गरीबों को मिलेगा राशन मुफ्त, पैसे भी आएंगे गरीबों के खातों में।


लखनऊ 16 अप्रैल, कोविड संक्रमण के बढ़ते प्रसार के बीच यूपी की योगी सरकार एक बार फिर अपनी नाकामियों को छुपाने के लिए बड़ा फैसला लेने पर हुई मजबूर, अब सरकार सभी श्रमिकों, गरीब परिवारों को वित्तीय सहायता और राशन देगी।

आज शुक्रवार को उच्च स्तरीय बैठक में सीएम योगी ने कहा कि पिछले साल राज सरकार ने कोविड-19 की चुनौती का सामना करने के साथ ही विभिन्न कार्यों को आगे बढ़ाया था। उत्तर प्रदेश पहला राज्य था। जिसने श्रमिकों, स्ट्रीट वेंडरों, रिक्शा चालकों, कुली और पल्लेदारों आदि को भरण-पोषण भत्ता ऑनलाइन दिया। भरण पोषण के रूप में दिए गए पैसे ने उनके जीवन को बचाने का काम किया। संगठित क्षेत्र में श्रमिकों को दो बार तथा असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को एक बार भरा पोषण बता दिया गया। इसके साथ ही 15 दिन की राशन की किट भी दी गई। सीएम योगी ने कहा राशन कार्ड पात्रता समाप्त कर महा में दो बार एक बार प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना तथा दूसरी बार सार्वजनिक वितरण प्रणाली के माध्यम से राशन उपलब्ध कराया गया। बड़े पैमाने पर कम्युनिटी किचन की व्यवस्था की गई।

तकनीक के माध्यम से इन किचन्स का निरंतर अनुश्रवण किया गया। करोड़ों की संख्या में फूड पैकेट वितरित किए गए। स्वच्छता कर्मियों, पुलिसकर्मियों, सहित सभी कर्मियों का योगदान और जन सहयोग से कोरोना प्रबंधन में उत्तर प्रदेश अग्रणी रहा। इस वर्ष भी जरूरतमंदों को भरण-पोषण भत्ता और राशन उपलब्ध कराया जाएगा। सीएम ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं। की भरण पोषण पत्ता के पात्र लोगों की सूची अपडेट कर ली जाए। इसी तरह राशन वितरण कार्य की व्यवस्था की समीक्षा कर ली जाए। भत्ता वितरण डीवीटी प्रणाली के माध्यम से सीधे बैंक खातों में किया जाएगा।

 क्वारन्टीन सेंटरों में चाक-चौबंद रहे व्यवस्था।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना के बढ़ते प्रसार को ध्यान में रखते हुए दूसरे प्रदेशों से पलायन कर रहे प्रवासी मजदूरों की पूर्ति करने के आदेश दिए हैं। महाराष्ट्र, दिल्ली सहित दूसरे राज्यों से पलायन कर रहे मजदूरों के लिए इन क्वारेंटाइन सेंटर में सभी सुविधाएं होंगी। दूसरे प्रदेशों से यूपी आने वाले इन प्रवासी मजदूरों की जांच कर रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर इन सेंटर में रखा जाएगा। जहां चिकित्सकीय सुविधाओं संग खाने पीने की व्यवस्था का पूरा इंतजाम योगी सरकार करेगी। शुक्रवार तक 60 जनपदों में ऐसे क्वारन्टीन  सेंटर सक्रिय हो चुके थे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग