पवित्र ग्रंथ मैं बदलाव संभव नहीं वसीम रिजवी पर गंभीर आरोप लगाकर देश में अराजकता फैलाने और देश की शांति भंग करने के लिए दोषी--गादरे*

 *पवित्र ग्रंथ  मैं बदलाव संभव नहीं वसीम रिजवी पर गंभीर आरोप लगाकर देश में अराजकता फैलाने और देश की शांति भंग करने के लिए दोषी--गादरे*

मेरठ:- इस्लाम मजहब की पवित्र ग्रंथ में बदलाव संभव नहीं वसीम रिजवी पर गंभीर आरोप लगाकर देश में अराजकता फैलाने और देश की शांति भंग करने के लिए दोषी करार देकर सरकार को कड़े कदम उठाने चाहिए।

बहुजन मुक्ति पार्टी के प्रदेश मीडिया प्रभारी एवं मेरठ मंडल अध्यक्ष आर डी गादरे ने अपने वक्तव्य में कहा कि वसीम रिजवी पर लानत हो जो इस्लाम मजहब में दाखिल होकर भी कोई ज्ञान नहीं रखता उसको केवल अपनी राजनीति चमकाने या अपने प्रचार प्रसार के लिए आसमानी किताब पवित्र ग्रंथ कुराने पाक के बारे में जो आए थे हटाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की मैं ऐसे लोगों पर लानत भेजता हूं और दुआ करता हूं कि ईश्वर भगवान खुदा अल्लाह इसको हिदायत दे या अन्य जो षड्यंत्रकारी देश की शांति व्यवस्था को भंग करने और अराजकता फैलाने पर लगे हुए हैं ऐसे आतंकवादी या ऐसे अराजक तत्व को अपने संगठनों में या अपने दलों में या आसपास में जो रख रहे हैं या किसी का ऐसे लोगों पर जो छत्रछाया का काम कर रहे हैं उन लोगों पर भी उन संगठनों पर भी गंभीर मुकदमे दायर कर उन्हें बीच सड़क पर चौराहे पर पत्थर मारकर सजा देनी चाहिए क्योंकि पूरे संसार में सबसे बड़ा मजहब और समानता मसा बाद के लिए प्रचलित इस्लाम मजहब यह पवित्र ग्रंथ जिसके आधार पर ऐसे यजीदी लोगों को समाज में रहने का कोई अधिकार नहीं है कुराने पाक का आज तक एक जेर जबर तक नहीं हटाया जा सकता तो वसीम रिजवी जैसे आतंकी लोगों या उसके सरगना की क्या औकात है बहुजन मुक्ति पार्टी से ऐसे लोगों की निंदा नही कड़े शब्दों में निंदा करते हैं और तमाम मूल निवासियों से एकजुट होकर ऐसे यजीद लोगों पर बेशुमार लानत भेजें और उनको आसपास ना भटकने दे। हमारे देश में ऐसे फूट डालने वाले मूल निवासियों के बीच मुनाफिक भरे पड़े हैं जो अपनी कौम के ही और अपने खुद के भी दुश्मन हैं। बैठक में दीन मोहम्मद सलमानी डॉ खुर्शीद आलम सतेन्द्र गौतम महराजुदुदीन हबीबुर्रहमान चौहान चौधरी इश्तियाक अलीमुद्दीन सैफी मोहम्मद आसिफ मोहम्मद राशिद सैफी मनोज कुमार ओमवीर सिंह जिला अध्यक्ष एडवोकेट अंजार शहजाद अंसारी शमी अहमद इमरान राय सिराजुद्दीन मोहम्मद लुकमान राम सिंगार अयूब अली मौलाना शाहनवाज दिलशाद हाफिज मैनुद्दीन कमल किशोर मोहम्मद आरिफ राजपूत मोहम्मद अकरम इदरीसी इकबाल पसीना महेंद्र मानव कुलवंत सिंह भड़ाना शोएब अख्तर आदि मौजूद रहे

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग