🌹🌹फीका-फीका फाग🌹🌹

 


🌹🌹फीका-फीका फाग🌹🌹
●●●●●●●
बदले-बदले रंग है, फीका-फीका फाग !
ढपली भी गाने लगी, अब तो बदले राग !!
●●●●●●●
फागुन बैठा देखता, खाली हैं चौपाल !
उतरे-उतरे रंग है, फीके सभी गुलाल !!
●●●●●●●
बढ़ती जाए कालिमा, मन-मन में हर साल !
रंगों से कैसे मलें, इक दूजे के गाल !!
●●●●●●●
सूनी-सूनी होलिका, फीका-फीका फाग !
रहा मनों में हैं नहीं, इक दूजे से राग !!
●●●●●●●
स्वार्थ रंगी जब भावना, रही मनों को चीर !
बोलो सौरभ फाग में, कैसे उड़े अबीर !!
●●●●●●●
मन को ऐसे रंग लें, भर दें ऐसा प्यार !
हर पल हर दिन ही रहे, होली का त्यौहार !!
●●●●●●●
फौजी साजन से करे, सजनी एक सवाल !
भीगी सारी गोरियाँ, मेरे सूने गाल !!
●●●●●●●
आओ सजनी मैं रंगूँ, तेरे गोरे गाल !
अनायास होने लगा, मनवा आज गुलाल !!
●●●●●●●
सजनी तेरे सँग रचूँ, ऐसा एक धमाल !
तुझमे खुद को घोल दूँ, जैसे रंग गुलाल !!
●●●●●●●
✍ डॉo सत्यवान सौरभ
रिसर्च स्कॉलर,कवि,स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तंभकार,
  

--- डॉo सत्यवान सौरभ, 
, कवि,स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तंभकार, आकाशवाणी एवं टीवी पेनालिस्ट,

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग