चौहान बांगर वार्ड में भाजपा ने कमजोर और विवादित प्रत्याशी नहीं उतारा होता तो आज भाजपा मुकाबले से बाहर ना होती


 बेताब समाचार के लिए गुलजार अहमद की रिपोर्ट 
उत्तर पूर्वी दिल्ली के सीलमपुर विधानसभा क्षेत्र के चौहान बांगर वार्ड में उप चुनाव हो रहा है और यहां पर कांग्रेस पार्टी से पूर्व विधायक चौधरी मतीन अहमद के बेटे चौधरी जुबेर अहमद प्रत्याशी है। आम आदमी पार्टी से पूर्व विधायक हाजी इशराक खान अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। वेलफेयर पार्टी ऑफ इंडिया से मोहम्मद मोहसिन खान चुनाव मैदान में उतरे हैं।भारतीय जनता पार्टी ने  मोहम्मद नाजिर अंसारी को  अपना प्रत्याशी बनाया है। इस वार्ड में मुख्य मुकाबला कांग्रेस पार्टी और आम आदमी पार्टी के बीच माना जा रहा है। क्षेत्र के लोगों का कहना है कि यदि भारतीय जनता पार्टी ने एक विवादित प्रत्याशी नहीं उतारा होता तो आज भाजपा मुकाबले से बाहर ना होती।मुस्लिम बाहुल्य इस वार्ड में भाजपा दिल्ली में सबको चौंकाने वाला परिणाम देती। राजनीतिक सूत्रों से जो जानकारी मिली है उसके मुताबिक यहां पर भाजपा के मंडल अध्यक्ष मोहम्मद रुस्तम की दावेदारी पक्की मानी जा रही थी। मोहम्मद रुस्तम की इलाके में जो  जान पहचान है और वह जिस तरह से लोगों के काम आते हैं उसे देखते हुए यह माना जा रहा था कि भाजपा मोहम्मद रुस्तम को प्रत्याशी बनाएगी। लोग यह भी कह रहे हैं कि यदि मोहम्मद रुस्तम को चुनाव लड़ाया होता तो आज भाजपा मुकाबले से बाहर ना होती। मोहम्मद नाजिर अंसारी भाजपा के कमजोर और विवादित प्रत्याशी क्यों  माने जाते हैं ?  जब हमने इस बारे में क्षेत्र के लोगों से बातचीत की तो उनका कहना था जो व्यक्ति ₹50 के एफिडेविट के ₹200 लेता हो। जिसने लोन दिलवाने और अन्य कामों के बदले में लोगों को झूठे आश्वासन दिए हो तो लोग उसे कैसे वोट देंगे।लोगों ने तो और भी बहुत सी ऐसी बातें बताई जिन्हें हम प्रकाशित नहीं कर सकते।कई महिलाओं ने बताया कि यदि मोहम्मद रुस्तम को टिकट दिया होता तो भाजपा मुकाबले में होती। अब लोग यह भी कह रहे हैं कि भाजपा की ऐसी क्या मजबूरी थी कि मोहम्मद नाजिर अंसारी को ही टिकट दिया गया। बताया जाता है कि वह  25 साल से भाजपा में है,लेकिन भाजपा में 25 साल से तो बहुत सारे लोग हैं।उनका वर्क और उनका क्षेत्र में लोगों के लिए क्या सहयोग रहा है।यह सारी चीजें देखी जाती है अगर भाजपा ने इन सब बातों पर ध्यान दिया होता तो आज भाजपा मुकाबले से बाहर ना होती। वैसे एक और अंदरूनी चर्चा भाजपा के इस प्रत्याशी के बारे में कहीं जा रही है कि भाजपा के एक नेता ने मोहम्मद नाजिर अंसारी को कांग्रेस के एक नेता के इशारे पर टिकट दिलवाया है ताकि भाजपा का कमजोर प्रत्याशी रहे और कांग्रेसी यहां से जीत जाए।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग