कैराना से सपा विधायक चौधरी नाहिद हसन और उनकी मां पूर्व सांसद तबस्सुम बेगम के विरुद्ध गैंगस्टर का मुकदमा दर्ज दो शस्त्र के लाइसेंस किए गए निरस्त


 कैराना। सपा विधायक चौधरी नाहिद हसन और उसकी मां पूर्व सांसद तबस्सुम बेगम के विरूद्ध गैंगस्टर का मुकदमा दर्ज होने के बाद डीएम ने तबस्सुम हसन  के नाम दो शस्त्रों के लाइसेंस निरस्त कर दिए। बता दें कि 6 फरवरी को कोतवाली कैराना प्रभारी निरीक्षक प्रेमवीर सिंह राणा ने सपा विधायक चौधरी नाहिद हसन और उनकी माता पूर्व सांसद तबस्सुम हसन सहित 40 लोगो के विरूद्ध डीएम शामली  जसजीत कौर के अनुमोदन के बाद गैंगस्टर का मुकदमा दर्ज कराया था। वही गैंगस्टर का मुकदमा दर्ज होने के बाद डीएम ने सख्त कार्यवाही करते हुए पूर्व सांसद तबस्सुम हसन के नाम पर जारी दो शस्त्रों के लाइसेंस निरस्त कर दिए है। 

कोतवाली कैराना प्रभारी प्रेमवीर सिंह राणा ने बताया कि पूर्व सासंद तबस्सुम हसन  के नाम पर एक शस्त्र लाइसेंस पर पिस्टल व राइफल जारी की गई थी। प्रशासन ने कार्यवाही करते हुए पूर्व सांसद तबस्सुम बेगम का शस्त्र लाइसेंस निरस्त कर दिया है। 

आपको बता दें कि  कैराना से सपा विधायक नाहिद हसन, उनकी मां पूर्व सांसद तबस्सुम हसन समेत 40 लोगों को गिरोहबंद अधिनियम (गैंगस्टर एक्ट) के तहत मामला दर्ज किया किया गया है। इंस्पेक्टर कैराना प्रेमवीर राणा ने कोतवाली में दर्ज कराए मामले में सपा विधायक पर संगीन धाराओं में चार और उनकी मां तबस्सुम बेगम पर एक मामला दर्ज होने की बात कही है। इनके अलावा झिंझाना के मोहल्ला पठानान निवासी हैदर अली और गांव रामड़ा निवासी 37 लोगों को भी नामजद किया गया है।  नाहिद हसन को गिरोह का लीडर बताते हुए कहा है कि इनकी आम जनता के बीच शोहरत ठीक नहीं है। गत वर्ष अक्तूबर माह में कैराना से सपा विधायक कुछ पीड़ितों के साथ थाने पहुंचे थे और वहां उनकी इंस्पेक्टर प्रेमवीर राणा के साथ नोंकझोंक हो गई थी। तब उनके खिलाफ सरकारी कार्य में बाधा डालने और महामारी अधिनियम के तहत रिपोर्ट दर्ज की गई थी। जिला अधिकारी के अनुमोदन के बाद ये कार्रवाई की गई है। दरअसल  सपा विधायक पर एक दर्जन से ज्यादा मुकदमे दर्ज हैं,वह अपने विवादित बयानों को लेकर भी हमेशा सुर्खियों में रहते हैं,वह लगातार जिला पुलिस और प्रशासन से मोर्चा लेते रहते हैं, प्रशासन की गैंगस्टर कार्रवाई में इन लोगों का समाज में भय होने की बात कही गई है,

 पुलिस के अनुसार विधायक नाहिद हसन को गैंग लीडर बताया  गया है, इनके गैंग में तबस्सुम हसन सहित 40 लोगों के नाम हैं.,गैंग चार्ट में दर्ज किया गया है कि विधायक अपने गैंग के सदस्यों के साथ मिलकर अपराध करते हैं और अवैध रूप से भौतिक, आर्थिक लाभ अर्जित करते हैं,इस गैंग का समाज में भय व आतंक व्याप्त है,कोई भी व्यक्ति इनके खिलाफ रिपोर्ट लिखवाने या गवाही देने का साहस नहीं कर पाता है, डीएम के अनुमोदन के उपरांत 6 फरवरी को कोतवाली कैराना में यह मामला दर्ज किया गया है। इस मामले में विधायक नाहिद हसन, पूर्व सांसद तबस्सुम हसन, कय्यूम, आरिफ, फुरमान, साबिर, महमूद, अरशद, नौशाद, इरफान, राजा उर्फ तासीम, अफसरून, आरिफ, तस्लीम, इमरान, नाजर, मंगता, मोनिस, इनाम, महताब उर्फ बीरू, मुनव्वर, फरमान, जुल्फान, इरफान, इलियास, अब्बास उर्फ वासी, मुबारिक, गुफरान, मुरसलीन, परवेज, हारून, हाशिम, सालिम, मोमीन, राशिद उर्फ भूरा, इंतजार, चौधरी दानिश उर्फ काला, अहसान, सारिक, हैदर अली के नाम शामिल किये गए है. 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग