देश में आज़ादी खत्म इमेरजेंसी जैसे हालात, मौलाना तौकीर रज़ा


 *रामपुर दरगाह के सज्जादा नशी की गिरफ्तारी पर भड़के मौलाना तौक़ीर रज़ा खान*


बेताब समाचार एक्सप्रेस के लिए बरेली से मुस्तकीम मंसूरी की रिपोर्ट।


देश में आज़ादी खत्म इमेरजेंसी जैसे हालात, मौलाना तौकीर रज़ा

अपनी खानकाहों को बचाने खानकाहों की हिफाज़त सज्जादगान को बेइज़्ज़त किये जाने के खिलाफ सोमवार को देगे गिफ्तारी मौलाना तौकीर रज़ा

सभी खानखाहो और दरगाहों से अपील रामपुर सज्जादानशी की गिरफ़्तारी के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाये

बरेली,किसान आंदोलन की हिमायत में ज्ञापन देने गए रामपुर में दरगाह   सज्जादानशी के साथ पुलिस अधिकारी द्वारा अभद्र व्यवहार किये जाने के बाद मुसलमानों और दरगाह में आस्था रखने वालों की नाराजगी पर रामपुर पहुँचे आई ऍम सी प्रमुख की वापसी के बाद सज्जादा नशी की गिरफ्तारी पर प्रेस वार्ता करते हुए आई ऍम सी प्रमुख ने कहा सरकार न काम हो गयी है अपनी नाकामी किसान आंदोलन की आवाज़ दबाने को हिन्दू मुस्लिम में बाटने की साजिशें रची जा रही है खानखानों और सज्जादगान को बेइज़्ज़त किया जा रहा है खानखानों की हिफाज़त को सज्जादगान के खिलाफ किये जा रहे ज़ुल्म के खिलाफ खामोश नही बैठा जा सकता उन्हों ने कहा जब आज़ादी खत्म हो गयी तो दिखावे की आज़ादी से बेहतर है। खुद को गिरफ्तार करा दिया जाये लेहाज़ा खानखाहो व दरगाहों व उन के सज्जादगान की हिफाज़त रामपुर खानखाह के सज्जादानशी के साथ 48 घण्टे में न्याय नही किया गया तो विरोध में सोमवार को अपने निवास से पैदल ए  डी जी ऑफिस जाकर गरफ्तारी देगे उन्होंने कहा किसानों की हिमायत करना अपराध बनाया जा रहा  फोन टेप किये जा रहे आवाज़ को दबाने के लिए ही ज़ूल्म किये जा रहे लेहाज़ा इस सब के लिए हिन्दू मुसलमान से ऊपर उठ कर संघर्ष का वक्त आ गया है 


मैं सभी खानखाहो व दरगाहों के सज्जादगान से अपील करता हूँ आज रामपुर के दरगाह के साथ ज़ुल्म हुआ कल किसी दूसरी खानखा दरगाह के खिलाफ यही साज़िश की जायेगी लेहाज़ा वक़्त रहते आवाज़ उठाये।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग