शादीशुदा थानेदार को प्रेम करना पड़ा महंगा,पत्नी ने रिश्तेदारों के साथ रंगे हाथों पकड़ा

मध्य प्रदेश। ग्वालियर के एक थानेदार को उसकी आशिकमिजाजी उस वक्त भारी पड़ गई जब पत्नी ने एक फ्लैट में प्रेमिका के साथ रंगे-हाथों पकड़ लिया। पत्नी दो महीने से थानेदार की जासूसी करा रही थी। करीब दो महीने की जासूसी के बाद पत्नी को जब सटीक सूचना मिली कि थानेदार ग्वालियर के मुरार में एक फ्लैट में अपनी प्रेमिका के साथ हैं तो पत्नी ने भी पुलिसिया अंदाज में अपने रिश्तेदारों के साथ मिलकर थानेदार की घेराबंदी की और अचानक दबिश दे दी। थानेदार उसी तरह पकड़े गए जैसे वह किसी अपराधी को पकड़ा करते थे। महिला का कहना है कि पुलिस वाले की पत्नी होने के नाते इतना तरीका तो उन्हें भी आता है। दरअसल मुरैना के सबलगढ़ स्थित रामपुरा थाना के इंचार्ज सब इंस्पेक्टर सुनील बानोरिया गुरुवार को पुलिस लाइन की एक महिला आरक्षक को लेकर ग्वालियर के मुरार थाना स्थित महालक्ष्मी अपार्टमेंट के फ्लैट में ठहरे थे। पत्नी कंचन अपने भाई, पिता व अन्य मायके वालों को लेकर पहुंच गई। कंचन को दरवाजे पर देखकर सुनील की हालत खराब हो गई। किसी तरह उसने दरवाजा खोला। कंचन ने जब तलाशी ली, तो बाथरूम में एक युवती मिली है। इसके बाद उसने और परिजन ने हंगामा कर दिया। साथ ही पुलिस को बुला लिया। एसआई ने प्रेमिका को बचाया पत्नी और उसके परिजन ने युवती को पिटाई भी शुरू कर दी। इस पर एसआई ने युवती को गले लगाकर बचाने की कोशिश भी की। इसके बाद थानेदार की पत्नी ने पुलिस को कॉल कर बुलाया। काफी देर तक थाने पर हंगामा चला। आखिर में पति की कोई शिकायत न करते हुए वापस चले गए हैं। मीटिंग की कहकर निकले थे, पर मेरी सूचना सही निकली सब इंस्पेक्टर सुनील की पत्नी कंचन बानोरिया ने कहा कि उनके पति का किसी महिला के अफेयर का उन्हें दो महीने पहले पता लगा था। तभी से वह अपने भाई, रिश्तेदारों की मदद से नजर रख रही थीं। पल-पल की खबर व व्यवहार पर नजर रखी थी। गुरुवार को यह मीटिंग में जाने की कहकर निकले थे। उसके बाद इनके पीछे किसी को लगाया गया। पुलिस लाइन से उस लड़की को साथ में लिया। पहले एक साथी में छोड़ा। यह भी अपने कुछ दोस्तों के पास मिलने चले गए। रात को युवती को लेकर फ्लैट पर पहुंचे। हमें सूचना मिल चुकी थी, लोकेशन भी आ गई थी। इसके बाद अपने भाई, पिता व रिश्तेदारों को एकजुट कर उन्हें उस लड़की के साथ रंगे हाथ पकड़ा है। अभी परिवार की सहमति पर माफ कर दिया है इस मामले में कंचन का कहना है कि अभी परिवार की सहमति से यह मामला शांत हो गया है। उन्होंने वादा किया है कि वह आगे से ऐसा नहीं करेंगे। इसलिए माफ कर दिया है, लेकिन जरा भी उस तरह गए तो मैं शांत नहीं रहूंगी।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग