सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बिजनौर के एसपी संजीव त्यागी का ऑडियो वायरल ,दे रहे हैं हाथ पैर तोड़ने की धमकी









नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन (एनआरसी) को लेकर इन दिनों देश के कई राज्यों में जमकर विरोध प्रदर्शन हो रहा है। उत्तर प्रदेश, गुजरात, दिल्‍ली, कर्नाटक, पश्चिम बंगाल, असम के साथ ही बिहार में भी इस पर जबरदस्त विरोध देखने को मिल रहा है। सीएए और एनआरसी के खिलाफ प्रदर्शनों के दौरान हुई हिंसा में उत्तर प्रदेश में अब तक 15 लोगों की मौत हो गई है। वहीं, इस हिंसा में शामिल करीब 750 लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है।



समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक एडीजी (लॉ ऐंड ऑर्डर) प्रवीण कुमार ने शनिवार (21 दिसंबर) को कहा कि, “नागरिकता कानून को लेकर राज्य में 10 दिसंबर से हो रहे प्रदर्शनों में अब तक कुल 15 लोगों की मौत हुई है। 750 लोगों को गिरफ्तार किया गया है, हिरासत में लेकर 4500 को छोड़ा गया है। कुल 263 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं, जिसमें से 57 पुलिसकर्मी को आग से हाथ में चोटें आईं।”

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने नागिकता संशोधन कानून के खिलाफ हो रहे विरोध के बीच केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने बयान जारी कर कहा कि, “नैशनल रजिस्ट ऑफ सिटिजंस (एनआरसी) और नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) भारत के संविधान की आत्मा के खिलाफ हैं। हम बाबा साहेब आंबेडकर के संविधान पर इस तरह का हमला नहीं होने देंगे।” प्रियंका गांधी ने आगे कहा कि, “जनता इस हमले के खिलाफ सड़क पर उतर कर संविधान के लिए लड़ रही है, लेकिन सरकार बर्बर दमन और हिंसा पर उतारू है। देश भर में छात्रों, बुद्धिजीवियों, सामाजिक कार्यकर्ताओं, वकीलों और पत्रकारों की अवैध गिरफ्तारी निंदनीय है। यह लोकतंत्र के लिए एक काला दिन है।”


इस बीच, बिजनौर के एसपी संजीव त्यागी की आवाज में कथित तौर पर एक ऑडियो क्लिप सामने आया है, जो अब सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। बिजनौर के एसपी संजीव त्यागी की आवाज में जो ऑडियो क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है उसमें स्पष्ट रूप से बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से यूपी पुलिस को सख्त कार्रवाई के आदेश मिले है क्योंकि किसी को भी अधिकार नहीं है कि वो सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाए और पुलिस पर हमले करे।उन्होंने स्पष्ट कहा कि किसी भी थाने में मज़ाक नहीं झेला जाएगा और सभी को यह सुनिश्चित करना है कि किसी भी प्रकार की भीड़ न जमा हो सके। उन्होंने पुलिस को हिदायत देते हुए कहा कि सभी को हिंसक भीड़ से निपटने के लिए सख्त निर्देश है और कोई गलत काम नहीं हुआ है। पार्लियामेंट यानि संसद में एक एक्ट पारित हुआ है और इससे बिजनौर के किसी व्यक्ति का कोई अहित नहीं हो रहा है। उन्होंने कहा कि किसी को कोई अधिकार नहीं है कि अफवाह के आधार पर अराजकता का माहौल पैदा करे। अगर कोई भी ऐसा करता है चाहे वो कितने भी लोग हैं तो वे सभी गैर कानूनी काम कर रहे हैं और उनके खिलाफ सख्त से सख्त कारवाई होनी चाहिए। उन्होंने बताया कि मीटिंग में मुख्यमंत्री से स्पष्ट निर्देश मिले है और क्या यूपी पुलिस इतनी कायर है कि कोई आपको पत्थर से मारे और आपके साथ मारपीट करे तो आप नहीं मार पा रहे है? उन्होंने ऐसे अपराधियों के हाथ पैर भी तोड़ देने की बात कही।


उन्होंने यह भी कहा कि चाहे कोई आपकी वीडियो बनाए या फोटोग्राफी की जा रही हो, आपको सिस्टम का पूरा सपोर्ट मिलेगा। उन्होंने आगे कहा कि अगर आपने उपद्रवियों पर सख्त कार्रवाई की है तो आपको पूरा सपोर्ट किया जाएगा। उन्होंने पुलिस को निर्देश देते हुए यह भी कहा है कि आप ऐसी कार्रवाई कीजिए कि उपद्रव करने वाले की बुद्धि ठीक हो जाए और देखने वालों की भी। साथ ही उन्होंने कहा कि अगर किसी भी थाने में एक भी पत्थर आ गया और आपने पत्थर फेंकने वाले का हाथ-पैर नहीं तोड़ा तो सीधा-सीधा थाना इंचार्ज सस्पेंड हो जाएंगे।


उन्होंने यह भी कहा कि, कोई पुलिस वाला निजी वाहन लेकर डियुटी पर नहीं जाएंगा सभी सरकारी वाहन से जाएंगे। साथ ही कहा कि कोई भी पुलिसवाला अपनी वर्दी के अलवा कोई भी अन्य रंग-बिरंगी जैकेट न पहने। अगर कहीं लाठी चार्ज होती है तो वहां अपने दंगा नियंत्रण उपकरण से लैस होने चाहिए। हेलमेट और बॉडी प्रोटेक्टर सहित सभी उपकरण आपके पास होने चाहिए। उन्होंने यह भी हिदायात दी कि अगर किसी पुलिसवाले की फोटो बिना इन सभी उपकरण के आए तो चाहे वो कोई भी अफसर हो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।


वहीं, इस वायरल ऑडियो क्लिप पर प्रतिक्रिया लेने के लिए जब 'जनता का रिपोर्टर' ने बिजनौर के एसपी संजीव त्यागी से संपर्क किया तो उन्होंने इस बात की पुष्टि करने से इनकार कर दिया कि ऑडियो में आवाज उनकी है। 'जनता का रिपोर्टर' से कॉल पर बात करते हुए संजीव त्यागी ने कहा कि, “हमको उसके बारे में कोई आइडिया नहीं है, हमें नहीं पता वो हमारा है या किसका है, हमने वो ऑडियो नहीं सुना है, हमें नहीं पता उसमें क्या है और ना ही हमको किसी ने उसके बारे में बताया है।” इतना बोलते के साथ ही उन्होंने कॉल कट कर दिया।


इस ऑडियो क्लिप को आप यहां सुन सकते हैं


बता दें कि, सीएम योगी आदित्यनाथ ने नागरिकता संशोधित कानून को लेकर फैलाए जा रहे बहकावे में नहीं आने की अपील करते हुए कहा था कि उपद्रव और हिंसा की छूट किसी को नहीं दी जा सकती। सीएम योगी ने कहा था कि, 'कानून को हाथ में लेकर उपद्रव और हिंसा करने की छूट किसी को नहीं दी जा सकती। नागरिकता संशोधित कानून पर फैलाए जा रहे भ्रम और बहकावे में कोई भी न आए। साभार:  जनता का रिपोर्टर


















 

 












टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र

ज़िला पंचायत सदस्य पद के उपचुनाव में वार्ड नंबर 16 से श्रीमती जसविंदर कौर की शानदार जीत