मजलूम समाज पार्टी उत्तर प्रदेश की सभी विधानसभा सीटों पर लड़ेगी -लियाकत मुस्लिम

 मजलूम समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष लियाकत मुस्लिम ने बताया कि हिंदू, मुस्लिम एकता व अमन भाईचारा कायम करने में विश्वास रखने वाली मजलूम समाज पार्टी को भारत निर्वाचन आयोग ने पंजीकृत दल के रूप में मान्यता दे दी है। जिसके बाद कार्यकर्ताओं ने अपनी खुशी का इजहार किया। रूड़की रोड पर स्थित एक रेस्टोरेंट में पत्रकारों से वार्ता करते हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष लियाकत मुस्लिम ने बताया कि उन्होंने चुनाव आयोग से चुनाव चिन्ह के रूप में जूता मांगा है। पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि 2022 के चुनावों में ज्यादातर पार्टियां पेशेवर नेताओं के साथ जुल्म करेगी और उन्हे टिकट नहीं देगी।   ऐसे में वंचित नेताओं को मजलूम समाज पार्टी टिकट देकर पूरी 403 सीटों पर चुनाव लडवायेगी। राष्ट्रीय अध्यक्ष ने बताया कि उनकी पार्टी पश्चिमी उत्तर प्रदेश में पूरे फोरम पर गठित हो चुकी है और अब पूर्वाचंल ओर मंध्याचल की तैयारी है। पार्टी का मुख्यालय मेरठ को बनाया गया है। मजलूम समाज पार्टी विधानसभा का चुनाव अपने दम खम पर लड़ेगी।


उन्होंने पत्रकारों को बताया कि पार्टी के एजेंडे में मुस्लिमों को 17 प्रतिशत आरक्षण, मजदूरों व किसानों का कर्जा माफ करने, न्यूनतम मजदूरी सात सौ रूपये होने, गरीबों को मुफ्त बिजली शिक्षा व चिकित्सा देने और बेरोजगार युवाओं को दस हजार रूपये प्रति माह बेरोगार भत्ता देने की योजना पर काम करेगी। इसके अलावा गरीबों व दलितों की बेटियों की शादी में दो लाख रूपये की सहायता तथा मजदूर व्यक्ति को 60 वर्ष की आयु पूरा करने के उपरांत पांच हजार की पेंशन दिलाने में भी पार्टी अग्रणीय भूमिका अदा करेगी। पत्रकार वार्ता में चौधरी मीरहसन बालियान, चौधरी अख्तर अली, चौधरी मुनसफ अली, नईम उर्फ पोंटी, एडवोकेट रासु बालियान, दाउद बालियान, आबाद सागर, अकरम प्रधान, मुशर्रफ प्रधान, अफसरून प्रधान, आशु मलिक, अरविंद सिंह, नजाकत अली, नवाब गजी अली, मेहराज, बादल सिंह प्रधान, सलमान कुरैशी, राव वाजिद अली, नवाब मेहताब अली सहित बिजनौर, सहारनपुर, गाजियाबाद, मेरठ से आये हुए पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद रहे।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग