पीपुल्स एलाइंस ने उन्नाव मामलें में सीबीआई जांच बैठाए जाने की मांग किया।


 पीपुल्स एलाइंस ने उन्नाव मामलें में सीबीआई जांच बैठाए जाने की मांग किया।


उन्नाव मामले में कानुपर अस्पताल में चल रहे लड़की का इलाज़ दिल्ली एम्स में कराया जाए- पीपुल्स एलाइंस

सिद्धार्थनगर, 19 फरवरी 2021:  पीपुल्स एलाइंस ने उन्नाव के तीन दलित नाबालिग लड़कियों का संदिग्ध परिस्थिति में मिलना, जिसमें 2 की मौत और तीसरी लड़की अस्पताल में जिंदगी-मौत से लड़ रही है, ऐसे में संग़ठन ने चिंता प्रकट किया। उत्तरप्रदेश में लागातार महिलाओं पर हो रहे बलात्कार और हिंसा लॉ एंड आर्डर की धज्जियां उड़ा रहा है।पीपुल्स एलाइंस का कहना है कि उन्नाव में दलित नाबालिग लड़कियों का संदिग्ध परिस्थिति में मौत बेहद चिंताजनक है। इस मामले में पुलिस प्रशासन की लीपापोती सामने आ रही है। उन्नाव पुलिस दोनों लड़कियों के पोस्टमार्टम के बाद आनन-फानन में जेसीबी बुलाकर दफनाना चाह रही थी, जिसका मृतका के परिजनों और गाँव वालों ने विरोध किया। मृतका के पिता के थाने में तहरीर देने के अनुसार संदिग्ध हालत में मिली 3 लड़कियों का गला और हाथ दुप्पटे से बंधा था। ऐसे में परिजनों ने लड़कियों की हत्या की आशंका जाहिर की है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट से मौत की वजह स्पष्ट नहीं हो पा रहा है, ऐसे में पुनः दिल्ली एम्स में बच्चियों का पोस्टमार्टम कराया जाए।

पीपुल्स एलाइंस की निम्नवत मांग है- 

1. उन्नाव दलित नाबालिग लड़कियों के मौत की घटना पर सीबीआई जांच बैठाई जाए।

2. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत की वजह स्पष्ट नही हो पा रही है, ऐसे में पोस्टमार्टम दिल्ली के एम्स अस्पताल में कराया जाए।

3. तीसरी लड़की का इलाज़ दिल्ली के एम्स में कराया जाए।

पीपुल्स एलाइंस ने दलित नाबालिग लड़कियों के मौत पर दुःख प्रकट किया और तीसरी लड़की के बहतर इलाज के लिए दिल्ली एम्स में इलाज कराने की मांग की है। संग़ठन ने इस पूरे मामले पर सीबीआई जांच बैठाने की मांग किया।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग